ICSE Kya Hai? – जानिए Full Form, Meaning, Exam Pattern

ICSE board kya hai? इसके बारे में इस आर्टिकल के माध्यम से चर्चा करेंगे तो चलिए दोस्तों आगे बढ़ते और जानने की कोशिश करते है। देश के सभी माता-पिता अपने बच्चों की शिक्षा को लेकर बहुत परेशान रहते हैं कि उन्हें किस स्कूल में दाखिला दिया जाए, जो उनके लिए बेहतर साबित हो और अपने जीवन में कुछ कर सके ताकि आगे चलकर उसे परेशानी न हो। ऐसी चिंता सभी माता-पिता के साथ अपने बच्चों को लेकर होती है ।

और दूसरी ओर, जब बच्चों को आगे की पढ़ाई के लिए स्कूल में भर्ती कराने की बात आती है, तो सभी माता-पिता का मानना ​​है कि सीबीएसई बोर्ड को लेना चाहिए । आईसीएसई (ICSE) बोर्ड में उनके लिए कौन सा बोर्ड बेहतर साबित होगा, क्योकिं देश के लिए राष्ट्रीय स्तर पर 2 महत्वपूर्ण बोर्ड हैं जहां सीबीएसई (CBSE) बोर्ड और आईसीएसई (ICSE) बोर्ड दोनों आते हैं। क्या आप जानते है की ICSE एक ऐसा बोर्ड है, जिसमें आयोजित की जाने वाली परीक्षा CISCE के संचालन के अंतर्गत होती है।

ICSE की परीक्षाएँ कक्षा दसवीं और बारहवीं के लिए संचालित की जाती हैं। जिसमे आपको अपना करियर चुनना होता है। तो दोस्तों इस आर्टिकल के माध्यम से आप जानेंगे की ICSE का Full Form क्या है? हिंदी में इसका Full Form क्या है? इन सभी बातो पर विस्तार पूर्वक चर्चा करेंगे, तो इस जानकारी के लिए आपको मेरे इस आर्टिकल को ध्यानपूर्वक पढ़ना होगा।

ICSE Full Form

चलिए दोस्तों ICSE full form जानते है, तो ICSE ka full form है (Indian Certificate of Secondary Education).

ICSE Full Form in Hindi

चलिए दोस्तों जानते है की ICSE board full form in hindi क्या होता है? तो दोस्तों आपने तो उपर जान लिया है की ICSE ka full form in English क्या होता है? अब हिंदी में जानते है – ICSE full form in hindi (भारतीय माध्यमिक शिक्षा प्रमाण पत्र).

आईसीएसई (ICSE) का क्या मतलब है?

चलिए दोस्तों जानते है की आईसीएसई (ICSE) का क्या मतलब है या what is the meaning of ICSE? ICSE एक ऐसा बोर्ड है, जिसमें परीक्षा CISCE (The Council For The Indian School Certificate Examinations) यानी काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन द्वारा आयोजित की जाती है।

what is icse board

काउन्सिल ऑफ इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्ज़ामिनेशंस (CISCE) भारत का एक Private, गैर सरकारी (Non-Government Education Board) शिक्षा परिषद माना जाता है। ICSE education जो की इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है।

ICSE की स्थापना कब हुई?

दोस्तों आपने ऊपर जाना की ICSE board full form तथा ICSE full form in hindi क्या होता है? अब जानते है की ICSE की स्थापना कब हुई? तो इसके लिए मेरे इस आर्टिकल को ध्यान पूर्वक अंत तक पढ़ना होगा।

क्या आपको पता है की ICSE की स्थापना कब हुई? तो इसके लिए सबसे पहले आपको पता होना चाहिए की आईसीएसई (ICSE) की स्थापना कब हुई और यह कब से काम करता है? ICSE की स्थापना 3 November 1958, India में कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी (Cambridge University) द्वारा भारत में एक परीक्षा आयोजित करने के लिए की गई थी। इस बोर्ड के अंतर्गत आने वाले सभी स्कूल इस बोर्ड द्वारा बनाए गए नियमो तथा पाठ्यक्रम का पालन करते हैं।

आईसीएसई (ICSE) के प्रमुख कौन हैं?

ICSE का प्रमुख का नाम है – गेरी अराथून (मुख्य कार्यकारी और सचिव) तथा जी इमैनुएल (अध्यक्ष) है।

ICSE Board का एग्जाम पैटर्न क्या है?

Group I और Group II के लिएExternal Examination – 80%Internal Assessment – 20%
Group III के लिएExternal Examination – 50%Internal Examination – 50%
  • Group 1: Compulsory विषय – English, History, Civics & Geography, And Indian Language.
  • Group 2: इसमें आप 2 Subject सेलेक्ट कर सकते है। Mathematics, Science, Environmental Science, Agricultural Science, Computer Science, Commercial Studies, तकनीकी ड्राइंग, अर्थशास्त्र, एक आधुनिक विदेशी भाषा, A Classical Language
  • Group 3: इसमें आप कोई भी Subject चुन सकते है। Computer Application, Economic Application, Commercial Application, गृह विज्ञान, कला, प्रदर्शन कला, कुकरी, Fashion Designing, शारीरिक शिक्षा, योग, तकनीकी ड्राइंग अनुप्रयोग।

ICSE Board और CBSE Board में अंतर

दोस्तों अब हम जानेंगे की ICSE दूसरे बोर्ड से कितना अलग है? जैसा की हम सभी जानते है की भारत में ICSE के अलावा CBSE बोर्ड भी है। ICSE में सिर्फ आपको English Medium में पढ़ाया जाता है जबकि CBSE बोर्ड में ऐसा नहीं है। इसमें आपको English Medium के अलावा हिंदी medium में भी पढ़ाया जाता है। तो आइये जानते है की और क्या-क्या अंतर है (ICSE vs CBSE) –

  • ICSE में आपको केवल English में पढ़ाया जाता है जबकि CBSE में आपको English & Hindi दोनों में पढ़ाया जाता है।
  • ICSE बोर्ड में आपको भाषाओ, कला और दूसरे विषयों पर ज्यादा जोर दिया जाता है। जबकि CBSE में आपको Science तथा Maths पर ज्यादा ध्यान दिया जाता है।
  • CBSE बोर्ड में Theory पर ज्यादा ध्यान दिया जाता है जबकि ICSE बोर्ड में Practical पर ज्यादा ध्यान दिया जाता है।
  • ICSE में कम छात्र रहते है जिसके चलते प्रत्येक छात्र पर प्रत्येक शिक्षक का ध्यान रहता है। तथा इसमें छात्रों को उनके पसंद का भी स्किल सिखाया जाता है।
  • ICSE बोर्ड दूसरे बोर्ड के अपेक्षा थोड़ा मुश्किल बोर्ड मन जाता है। ICSE बोर्ड परीक्षा हर साल फरवरी और मार्च के महीनों के दौरान आयोजित की जाती है और परिणाम मई-जून तक आते हैं। CBSE बोर्ड की परीक्षा मार्च महीने में आयोजित किया जाता है।

Read MoreICSE Vs CBSE

ICSE Board के फायदे

आईसीएसई (ICSE) बोर्ड एक ऐसा महत्वपूर्ण बोर्ड है, जो मुख्य रूप से बच्चे के समग्र विकास पर ध्यान केंद्रित करता है और उसका पाठ्यक्रम संतुलित एवं सक्षम होता है। ICSE syllabus अधिक व्यापक है और इसमें छात्रों में व्यावहारिक ज्ञान और विश्लेषणात्मक कौशल में वृद्धि होती है।

ICSE में उच्च गुणवत्ता वाले विषयो पर विशेष ध्यान दिया जाता है। इस कोर्स में छात्रों को अपने मन के अनुसार विशिष्ट विषयों का चयन करने के लिए कहा जाता है। इस बोर्ड में केवल English में पढाई होती है। इसलिए जो छात्र English में पढ़ना एवं सीखना चाहते है। उन सभी छात्रों के लिए यह बहुत बेस्ट विकल्प है।

ICSE Board ka Helpline Number

आप ICSE में शिकायत या सुझाव कैसे कर सकते है? इसके लिए आपको हेल्पलाइन नम्बर दिया जा रहा है जिसपर आप कॉल कर अपनी शिकायत दर्ज कर सकते है।

  • फोन: 011-29564831/ 011-29564833/ 011-29564837

तो उम्मीद है की आपको समझ में जरुर आ गया होगा की ICSE क्या है?, ICSE Full Form क्या है? अगर आपको जानकारी अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों में इसे शेयर जरुर करे । तथा Comment करके जरुर बताये की आपको यह आर्टिकल कैसा लगा।

यह भी पढ़े –

Leave a Comment